नवनिर्मित घाट

रविदास घाट वर्तमान नगवाँ क्षेत्र में यह घाट स्थित है, घाट का नामकरण संत रविदास के नाम से हुआ है। घाट तट पर राज्य सरकार के द्वारा संत रविदास पार्क का निर्माण कराया गया है जो सुन्दर, हरा-भरा एवं रमणीय है। इस घाट पर भी स्नानार्थियों की संख्या नगण्य है, गंगा एंव प्रकृति के समन्वय स्थल के मनोरम दृश्य का आनन्द लेने के लिये लोग इस पार्क में आते हैं। धार्मिक दृष्टि से इसका कोई विशेष महत्व नहीं है परन्तु पर्यटकों का आवागमन काफी संख्या में होता है।

मालवीय घाट अस्सी घाट के दक्षिणी भाग का विस्तार करने के पश्चात घाट का पक्का निर्माण कराया गया। इस विस्तारित क्षेत्र को महामना मदन मोहन मालवीय जी के नाम पर मालवीय घाट से नामकरण किया गया। अस्सी घाट से सटे होने के कारण पर्यटकों एवं स्नानार्थियों का यहां भी आगमन होता है।

कच्चा घाट

सामने घाटवर्तमान में यह घाट कच्चा है, गंगा तट के सामने दूसरे तट पर रामनगर में वर्तमान काशी नरेश का किला है, जिसके कारण इसका नाम सामने घाट से प्रचलित हो गया। गंगा के उस पार जाने के लिये पीपा के पुल का निर्माण हुआ है जो रामनगर को काशी से जोड़ता है बाढ़ के समय इस पुल को खोल दिया जाता है तथा यात्री विश्व सुन्दरी पुल से होकर रामनगर में प्रवेश करते हैं। वर्तमान में घाट पर राज्य सरकार के द्वारा पक्के पुल का निर्माण कार्य चल रहा है। धार्मिक एवं सांस्कृतिक दृष्टि से इस घाट का कोई खास महत्व नहीं है फिर भी स्थानीय निवासी यहां स्नान कार्य एवं पूजा-पाठ करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *