गतिविधियाँ

काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के केंद्रीय ग्रंथालय में बनारस के ऊपर उपलब्ध महत्वपूर्ण पुस्तकें

काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के केंद्रीय ग्रंथालय में बनारस के ऊपर उपलब्ध महत्वपूर्ण पुस्तकें

गतिविधियाँ

देवदीपावली

जिसे काशीवासियों ने बनाया महा उत्सव विश्व के सबसे प्राचीन शहर काशी की संस्कृति एवं परम्परा है देवदीपावली। प्राचीन समय से ही कार्तिक माह में घाटों पर दीप जलाने की परम्परा चली आ रही है, प्राचीन परम्परा और संस्कृति में आधुनिकता का समन्वय कर काशी ने विश्वस्तर पर एक नये अध्याय का सृजन किया है। […]

गतिविधियाँ

अतीत के आईने में काशी

मार्क ट्वेन ने लिखा है कि “वाराणसी इतिहास से भी प्राचीन है, परम्परा की दृष्टि से भी अतिशय प्राचीन है और मिथकों से कहीं अधिक प्राचीन है और यदि तीनों (इतिहास, परम्परा और मिथक) को एक साथ रखा जाए तो यह उससे दोगुनी प्राचीन है।” प्रस्तुत है अतीत के आईने में झाँकते हुए काशी से […]

गतिविधियाँ

धर्म यात्राओं की अनूठी पहल

काशी में धर्म लोगों का अभिन्न अंग रहा है। प्रातःकाल का आगमन यहां घण्टा-घड़ियालों वैदिक मन्त्रों के सुमधुर स्वर एवं हवन सामग्रियों की सुगन्ध के साथ होता है। काशी से जुड़ा एक कर्म यात्रा का भी है। हिन्दुओं के लिए धार्मिक यात्राओं का अपना महत्व रहा है। यात्राओं की बात की जाय तो काशी में […]

गतिविधियाँ

लाल खाँ का रौजा (मकबरा), राजघाट

लाल खाँ का मकबरा काशी में मुगल काल के दौरान बनाई गयी मकबरों में से एक है। इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय कला केन्द्र (IGNCA) के अनुसार लाल खाँ मुगलकाल में फर्रूखसियर के शासन काल में काशी के स्थानीय शासक थे। संभवतः जिनका महल राजघाट के समीप गंगा के तट पर था, जो अब लाल घाट के […]

गतिविधियाँ

रथ पर आरूढ़ होकर निकले भगवान जगन्नाथ

काशी के लख्खा मेलें में शुमार तीन दिवसीय रथयात्रा मेला 28 जून रविवार से आरम्भ हुआ। रथारूढ़ जगन्नाथ प्रभु भाई बलराम व बहन सुभद्रा के साथ नगर भ्रमण को निकले। लगभग 212 साल पुरानी यह रथयात्रा मेला अपने आप में कई जो परम्पराओं को समेटे हुए है। इस परम्परागत रथयात्रा मेला के आयोजन के सन्दर्भ […]

गतिविधियाँ

‘काशी कथा’ ने भोजपुरी के कवि पं. हरिराम द्विवेदी का किया सम्मान

 ‘काशी कथा’ एवं मालवीय उद्यमिता सवंर्धन केन्द्र (बी0एच0यू0) द्वारा आयोजित एक सम्मान गोष्ठी आई. आई. टी. केमिकल डिपार्टमेंट बीएचयू में की गई। इस गोष्ठी में भोजपुरी के सुविख्यात कवि पं0 हरिराम द्विवेदी एवं डॉ. विश्वनाथ पाण्डेय को स्मृति चिन्ह एवं अंगवस्त्र प्रदान कर सम्मानित किया गया।

गतिविधियाँ

हनुमत दरबार में संगीत का अभिसिंचन

संगीत के महारथियों से सजा संकट मोचन संगीत समारोह साल भर बाद आखिरकार संगीतप्रमियों को एक बार फिर संगीत की विभिन्न विधाओं से साक्षात्कार करने का मौका मिल रहा है। हनुमत दरबार में संगीत की झनकार इस गर्मी में ठंडे हवा के झोके सा एहसास दे रही है। हनुमान जयंती के अवसर पर होने वाला […]

गतिविधियाँ

नवसंवत्सर का स्वागत कर मनाया मधुमंगल महोत्सव

विभिन्न क्षेत्रों के सात मनीषियों को किया गया सम्मानित संगीत की महफिल ने जमाया रंग, झूमते रहे श्रोता मनीषी परिषद की ओर से रविवार 13 अप्रैल को मधुमंगल महोत्सव का आयोजन किया गया। महमूरगंज स्थित सगुन लॉन में शाम को आयोजित इस कार्यक्रम में विभिन्न क्षेत्रों में विशिष्ट कार्य करने वाले सात मनीषियों को सम्मानित […]